वन क्षेत्र में चिंगारी के शोला बनते ही घनघनाएगा मोबाइल फोन

पाली, 17 अप्रैल (उदयपुर किरण). हर साल वनक्षेत्र में लगातार बढ़ती आगजनी की घटनाओं और उनमें आग की भेंट चढ़ती वन संपदा की रोकथाम के लिए वन विभाग ने कमर कस ली है. इस कवायद के तहत वन विभाग के अधिकारियों-कर्मचारियों के मोबाइल सैटेलाइट से जोड़े जा रहे हैं. इससे जीपीएस के माध्यम से उन्हें वन क्षेत्र में आग लगने की सूचना हाथों-हाथ मिल सकेगी. इसके चलते समय रहते आगजनी की घटनाओं पर काबू पाकर पेड़-पौधे, पक्षियों व वन्य जीवों को बचाया जा सकेगा. वन विभाग के अधिकारियों के लिए शुरु की गई इस नई तकनीक के माध्यम से उनके मोबाइल पर किसी भी वन क्षेत्र में आग लगते ही मैसेज पहुंच जाएगा.

मोबाइल के जीपीएस को सैटेलाइट से जल्द ही जोड़ दिया जाएगा. मैसेज के अलावा वनक्षेत्र में आग लगने वाले स्थान की फोटो तथा आग लगने का समय, वहां पहुंचने की दूरी, रास्ते का नक्शा तक मोबाइल पर उपलब्ध हो सकेगा. वन विभाग के अधिकारियों के मोबाइल नम्बर इस सुविधा के लिए अप्रैल से रजिस्टर्ड किए गए है. उप वन सरंक्षक समेत सहायक वन संरक्षक, क्षेत्रीय वन अधिकारियों व अन्य वनकर्मियों के मोबाइल के जीपीएस को सैटेलाइट से जोडऩे का कार्य लगातार चल रहा है. पाली के सहायक उप वन संरक्षक सुनील गुप्ता ने बताया कि वन विभाग के अधिकारियों के मोबाइल जीपीएस को सैटेलाइट से जोडऩे के बाद वनक्षेत्र में आगजनी की सूचना समय पर मिलने में आसानी मिलेगी. इससे वन विभाग की टीम तुरंत मौके पर पहुंच कर आग पर काबू पाने की तैयारी कर सकेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*