लोकसभा चुनाव : मध्यप्रदेश, गुजरात और राजस्थान के सीमावर्ती जिलों के अधिकारियों की बॉर्डर मीटिंग संपन्न

लोकसभा चुनाव : मध्यप्रदेश, गुजरात और राजस्थान के सीमावर्ती जिलों के अधिकारियों की बॉर्डर मीटिंग संपन्न

उदयपुर, 14 मार्च (उदयपुर किरण). उदयपुर संभाग के बांसवाड़ा में लोकसभा आम चुनाव 2019 को सुचारू ढंग से संपादित करने के लिए राजस्थान, मध्यप्रदेश और गुजरात के सीमावर्ती जिलों के प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों की बॉर्डर मीटिंग बांसवाड़ा कलक्ट्रेट में गुरुवार सुबह संपन्न हुई. बैठक में तीनों राज्यों के सीमावर्ती जिलों के कलक्टर, एसपी और निर्वाचन से जुड़े अन्य अधिकारियों ने बेहतर सूचना संप्रेषण व समन्वय स्थापित करते हुए चुनावों को शांतिपूर्ण ढंग से संपादित करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता जताई.

बैठक के आरंभ में बांसवाड़ा कलक्टर और जिला निर्वाचन अधिकारी आशीष गुप्ता ने सीमावर्ती जिलों के कलक्टर, एसपी व अन्य अधिकारियों का स्वागत किया और लोकसभा चुनाव में शांतिपूर्ण मतदान की परम्परा को बताते हुए चुनाव दौरान एहतियातन कानून एवं शांति व्यवस्था बनाए रखने तथा बेहतर समन्वय बनाने के लिए सूचनाओं का आदान-प्रदान करने की बात कही. उन्होंने जिले की भौगोलिक स्थितियों के बारे में जानकारी दी तथा बताया कि बांसवाड़ा जिले से लगती हुई मध्यप्रदेश के रतलाम व झाबुआ जिले की 124 किलोमीटर तथा गुजरात के दाहोद व महिसागर जिले की 63 किलोमीटर सीमा है, जिससे लगते हुए मतदान केन्द्रों पर विशेष ध्यान दिया जाना है. उन्होंने बताया कि गुजरात सीमा से लगते हुए बागीदौरा व कुशलगढ़ क्षेत्र के 38 मतदान केन्द्र तथा मध्यप्रदेश सीमा से लगते हुए कुशलगढ़ क्षेत्र के 62 मतदान केन्द्र हैं.

इस दौरान बांसवाड़ा एसपी तेजस्विनी गौतम ने जिले में शराब के प्रचलन को देखते हुए तथा मध्यप्रदेश से अवैध हथियार के आने की संभावनाओं को रोकने के लिए सीमा पर पास-पास में चैक पोस्ट स्थापित करने, प्रभावी ढंग से संयुक्त गश्त, वांछित अपराधियों की धरपकड़ तथा सख्त चौकसी की बात कही जिस पर झाबुआ और रतलाम जिलों के एसपी ने मध्यप्रदेश में शराब संबंधित इश्यू नहीं होने तथा चौकसी व अपराधियों की धरपकड़ के कार्य में हरसंभव सहयोग की बात कही.

बांसवाड़ा निर्वाचन कार्यालय द्वारा लोकसभा आम चुनाव के तहत सीमा से लगते हुए जिलों के मतदान केन्द्रों और यहां की भौगोलिक स्थिति पर उप जिला निर्वाचन अधिकारी (एडीएम) राजेश वर्मा द्वारा पावर प्वाइंट प्रजेंटेशन प्रस्तुत किया गया. उन्होंने मानचित्र के माध्यम से दोनों प्रदेशों से लगती सीमाओं की जानकारी दी.
गुजरात व मध्यप्रदेश से आए प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों ने इस दौरान चर्चा करते हुए अपने-अपने क्षेत्र के चुनाव अपराधों के बारे में जानकारी दी वहीं निर्वाचन कार्य को शांतिपूर्ण व आयोग के प्रावधानों के अनुरूप संपादित करवाने के लिए समस्त संवेदनशील स्थानों पर चैक पोस्ट स्थापित करते हुए चौकसी करने, संयुक्त गश्त करने, अपराधियों की धरपकड़ करने के संबंध में पुख्ता कार्यवाही करने को आश्वस्त किया.

इस दौरान समस्त जिलों के अधिकारियों ने सूचनाओं के त्वरित संप्रेषण के लिए अपने-अपने जिले से संबंधित सूचनाओं और कम्यूनिकेशन प्लान का आदान-प्रदान भी किया. बैठक में गुजरात के महिसागर जिला कलक्टर आरबी बारड़, झाबुआ कलक्टर प्रबल सिघाहा, झाबुआ एसपी विनीत जैन, रतलाम के उपजिला निर्वाचन अधिकारी प्रवीण फुलपगारे, रतलाम के बीआर सोलंकी, सैलाना एसडीएम कामनी ठाकुर, संतरामपुर एसडीएम निकुंज पारीख, दाहोद के पुलिस उपाधीक्षक एचजे बांकोल, दाहोद के मामलातदार हिरन चौहान, फतेहपुरा मामलातदार चेतन मिसान, संतरामपुर के एनएम पटेल सहित बांसवाड़ा जिले के पुलिस अधिकारी गोपीचंद, रतन चावला, प्रभातीलाल, अखिलेश जिला निर्वाचन कार्यालय के देवीलाल गर्ग, राहुल आचार्य आदि मौजूद थे.


http://udaipurkiran.in/hindi

लोकसभा चुनाव : मध्यप्रदेश, गुजरात और राजस्थान के सीमावर्ती जिलों के अधिकारियों की बॉर्डर मीटिंग संपन्न DAINIK PUKAR. Dainik Pukar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*