रायबरेली:पल्स पोलियों अभियान व संचारी रोग नियंत्रण अभियान को बनाये सफल: सीडीओ

रायबरेली:पल्स पोलियों अभियान व संचारी रोग नियंत्रण अभियान को बनाये सफल: सीडीओ

जिलाधिकारी नेहा शर्मा के निर्देश पर मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे डीटीएफएम की बैठक में दिये जा राहे निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन करें. पल्स पोलियों अभियान बूथ दिवस 23 जून तथा घर-घर दस्तक 24 जून से 28 जून तक सम्पन्न कराई जायेगी. बूथ दिवस प्रातः 08ः00 बजे सायं 04 बजे तक चलाया जायेगा. कोई भी शून्य से 05 साल तक का बच्चा पल्स पोलियों खुराक व टीकाकरण से वंचित न रहे. उन्होंने कहा कि टीकाकरण अभियान को गम्भीरता से लिया जाये. माईक्रो प्लान के अनुरूप कार्य किया जाना चाहिए. इसके अलावा द्वितीय संचारी रोग नियंत्रण अभिान 2019 को भी गम्भीरता से लिया जाये या अभियान 01 जुलाई से 31 जुलाई तक मनाया जायेगा. जिसकी समुचित तैयारिया पूर्ण कर ली जाये.
मुख्य विकास अधिकारी ने कहा कि संचारी रोगांे विशेष रूप से दिमागी बुखार पर प्रभावी नियंत्रण हेतु माननीय मुख्यमंत्री जी उत्तर प्रदेश की विशेष प्राथमिकताओं का कार्यक्रम संचारी रोग नियंत्रण माह-दस्तक अभियान (01 जुलाई से 31 जुलाई 2019) तक मनाया जाना है. जिसमंे सभी विभागों को संयुक्त रूप से आपसी समन्वय स्थापित कर कार्य कराना है. जिसमें स्वास्थ्य विभाग नोडल विभाग के रूप में कार्य करे व करायेगा. जनपद के समस्त ग्रामों में जलभराव के स्थानों पर लार्वा रोधी रसायन का नियमित छिड़काव किया जाना है. प्रधानों तथा स्कूल के बच्चों द्वारा जनजागरूकता हेतु प्रभात फेरियो का आयोजन किया जाना है. जनपद स्तर पर अन्र्तविभागीय समन्वय समिति की बैठक मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार की अध्यक्षता मंे बचत भवन सभागार में सम्पन्न करायी गयी एवं समस्त ब्लाक स्तरीय अन्र्तविभागीय समन्वय समिति की बैठकें आयोजित की जानी है. दस्तक अभियान के अन्र्तगत आशाओं, आंगनबाडी कार्यकत्रियों को घर-घर जाकर लोगों को संचारी रोगों के बारे में जागरूक करना है व रोगों से बचाव के उपाय बताना है. विभिन्न विभागों द्वारा शासन द्वारा निर्धारित कार्य एवं दायित्वों के अनुरूप कार्य कराये जाने है. पंचायत राज अधिकारी द्वारा उथले हैण्डपम्पों का निस्प्रयोज्य हेतु लाल रंग से चिन्हिकरण एवं प्लेटफार्म की मरम्मत का कार्य कराना है व ग्राम प्रधानों द्वारा नालियों की साफ सफाई व लार्वा रोधी रसायन का छिड़काव किया जाना है. जैसे कृषि विभाग द्वारा कृतक(चूहे, छछून्दर आदि) को नियंत्रित किया जाना है. झाड़ियांे की कटाई जलभराव के स्थानों को समाप्त किया जाना है. शिक्षा विभाग द्वारा बच्चों को संचारी रोग सम्बंधी शपथ दिलाने एवं प्रार्थना सभाओं में रोग के बारे में बताया जाना है. बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग द्वारा अतिकुपोषित बच्चों को चिन्हित कर पोषण पुर्नवास केन्द्र मंे सन्दर्भित किया जाना है एवं आंगनबाडी कार्यकत्री द्वारा दस्तक अभियान में घर-घर जाकर संचारी रोग से सम्बंधित जानकारियों को देने में पूर्ण सहयोग देना है. पशु पालन विभाग सुअर पालकांे को अन्य व्यवसाय जैसे कुक्कुट पालन, डेयरी फार्मिंग आदि हेतु पे्ररित किया जाना है. सुअर बाडों को यथासम्भव आबादी से दूर करने तथा सुअर बाडों को जालियों से ढकने एवं बाडों मे कीटनाशक दवा का छिड़काव किया जाना है. नगर विकास विभाग द्वारा मच्छर जनित बीमारियों की रोकथाम हेतु नगरीय वार्डों एवं शहरी क्षेत्र में रोस्टर अनुसार नियमित फागिंग व नालियों में लार्वा रोधी रसायन का छिड़काव किया जाना है. स्वास्थ्य विभाग को नोडल विभाग के रूप में कार्य करेगा तथा संचारी रोगांे पर नियंत्रण एवं उनके त्वरित एवं सुचारू उपचार के लिए समस्त निरोधात्मक उपाय करेगा.
अन्र्तविभागीय डिस्ट्रिक टास्क फोर्स की बैठक में मुख्य विकास अधिकारी द्वारा सभी कार्यक्रम से सम्बंधित विभागों से माइक्रोप्लान 15 जून 2019 तक कार्यालय मुख्य चिकित्साधिकारी में प्रेषित करने के निर्देश दिये. सभी विभागों को उनके उत्तरदायित्वों के निर्वहन निष्ठा पूर्वक करने हेतु निर्देशित किया गया जिससे अभियान सुचारू रूप से सफल हो सके.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*