राम को छोड़ने वालों ने दिल्ली में बनाया करोड़ों का कार्यालय : तोगड़िया

हरिद्वार, 13 जुलाई (उदयपुर किरण). अंतर्राष्ट्रीय हिन्दू परिषद के अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया का शनिवार को हरिद्वार पहुंचने पर उत्तरी हरिद्वार स्थित झालावार गुजरात आश्रम में संत समाज की ओर से भव्य स्वागत किया गया. झालावार आश्रम के परमाध्यक्ष महंत साधनानंद महाराज ने प्रवीण तोगड़िया को गंगाजली तथा शॉल ओढ़ाकर स्वागत किया. उन्हें रुद्राक्ष की माला भी भेंट की गई. इस दौरान संतों की बैठक में धर्मनगरी को नशा मुक्त करने की मुहिम शुरू करने का संकल्प भी व्यक्त किया गया.

बैठक को संबोधित करते हुए प्रवीण तोगड़िया ने कहा कि राष्ट्रीयता, गौ माता, हिंदू संस्कृति को बचाने के उद्देश्य से ही मेरा जन्म हुआ है. उन्होंने हिंदू संस्कृति के संरक्षण, संवर्द्धन व गौमाता की रक्षा का संकल्प दोहराते हुए कहा कि संगठित होकर ही हिंदू धर्म की रक्षा की जा सकती है. सत्ता में बैठे राजनेता मात्र सत्ता का सुख भोग रहे हैं. भगवा झण्डा पूरे देश में लहराया जाएगा. धर्म के झण्डे को किसी भी रूप में झुकने नहीं दिया जाएगा. देश हमारा है, राममंदिर का निर्माण हिंदुओं की आस्था का केंद्र बिन्दु है. भगवान श्री राम को छोड़ने वालों को हमने भी छोड़ दिया है. राम को छोड़ने वालों ने दिल्ली में करोड़ों का कार्यालय तो बना लिया. लेकिन भगवान राम का मंदिर अभी तक नहीं बनवाया.

उन्होंने कहा कि सत्ता में काबिज होकर मुस्लिम समाज की वकालत सरकार द्वारा की जा रही है. मदरसों, मस्जिदों के निर्माण तो देश भर में किए जाने की बात कही जा रही है. मुसलमानों को स्कॉलरशिप देने की घोषणाएं की जा रही हैं. लेकिन धर्म के ठेकेदार रामलला का मंदिर निर्माण करने में लोगों को मात्र आश्वासन दे रहे हैं. संकल्प के साथ भगवान श्रीराम का मंदिर निर्माण किया जाना चाहिए. हिंदुओं की ताकत संगठित होकर ही बनी रह सकती है.

उन्होंने कहा कि धर्मनगरी की मान मर्यादाओं को ताक पर रखने की कोशिशें राज्य सरकार कर रही है. बुचड़खानों को खोलने की अनुमति उत्तराखण्ड सरकार दे रही है. जिसको सहन नहीं किया जाएगा. ब्रह्मस्वरूप ब्रह्मचारी ने कहा कि धर्मनगरी हरिद्वार और ऋषिकेश नशा व वेश्यावृत्ति के कारोबार के मामले में प्रदेश की राजधानी बन गए हैं. उन्होंने कहा कि नशे का सेवन करने से परिवार बर्बादी की कगार पर पहुंच रहे हैं. भारत साधु समाज संतों के साथ मिलकर नशा मुक्ति के इस अभियान को प्रदेश भर में जनजागरूकता से फैलाएगा.

महंत साधनानंद महाराज ने कहा कि धर्मनगरी में नशे का कारोबार किसी भी रूप में सहन नहीं किया जाएगा. यह भारतीय परंपराओं व संस्कृति पर बड़ा खतरा बनता जा रहा है. कुंभ मेले से पूर्व शासन प्रशासन को नशे के कारोबार पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगाना चाहिए. संत समाज नशे के खिलाफ जन आंदोलन चलाने के लिए बाध्य होगा. सतपाल ब्रह्मचारी व श्रीमहंत विनोद गिरि ने कहा कि मंगलौर में स्लाटर हाउस का निर्माण किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.  इस अवसर पर स्वामी ज्ञानानन्द, महंत सूरज दास, विनोद महाराज, महंत श्यामप्रकाश, भाजपा नेता मनोज जखमोला, विदित शर्मा आदि भी मौजूद रहे.

Click & Download Udaipur Kiran App to read Latest Hindi News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*