बाजारों में शारीरिक दूरी का नहीं हो रहा पालन,नहीं संभले तो और बिगड़ जाएंगे हालात · Indias News

बाजारों में शारीरिक दूरी का नहीं हो रहा पालन,नहीं संभले तो और बिगड़ जाएंगे हालात

सोनभद्र . लॉकडाउन के तीसरे चरण में एक प्रवासी श्रमिक के पॉजीटिव होने के बाद लोगों को ये उम्मीद थी कि जनपद में कोरोना का कहर नहीं होगा लेकिन प्रवासी श्रमिकों के आगमन से जिले में सोमवार को दो और पॉजीटिव केस मिल गए. इस तरह जिले में कोरोना पॉजीटिव की संख्या तीन हो गई है.

राब‌र्ट्सगंज ब्लाक के उरमौरा स्थित जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान को भी ट्रांजिट प्वाइंट बनाया गया है. वाहन, पैदल व अन्य क्वारंटाइन सेंटर से गृह जनपद भेजने से पहले इस ट्रांजिट प्लाइंट पर प्रवासी श्रमिकों की थर्मल स्क्रीनिग कराई जा रही और भरपेट भोजन कराने के बाद परिवहन निगम की बसों से सभी को उनके गृह जनपद के राज्यों की सीमा पर पहुंचाया जा रहा है. सोमवार की सुबह 10 बजे जिलाधिकारी एस राजलिगम व पुलिस अधीक्षक आशीष श्रीवास्तव जांच के लिए पहुंचे. यहां थर्मल स्क्रीनिग में शासन से जारी गाइडलाइन का पालन हो रहा था लेकिन प्रवासी श्रमिकों के पंजीयन के लिए बनाए गए काउंटर से लेकर भोजन कराने तक में जगह-जगह खामियां ही मिलीं. भोजन लेने के बाद प्रवासी श्रमिक जत्थे में जगह-जगह बैठकर पेट की आग बुझाते रहे लेकिन शारीरिक दूरी का पालन नहीं किया जा रहा था. तमाम प्रवासी बिना मास्क ही भोजन लेते देखे गए. इस संबंध में मुख्य चिकित्साधिकारी डा. एसके उपाध्याय ने कहा कि हल्की सी चूक भारी पड़ सकती है. कदम-कदम पर एहतियात बरतने की जरूरत है.

इन ट्रांजिट सेंटरों का किया निरीक्षण

जिलाधिकारी एस राजलिगम व पुलिस अधीक्षक आशीष श्रीवास्तव ने जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान उरमौरा के अलावा आरआर पॉलीटेक्निक कॉलेज, डीएवी कॉलेज का आकस्मिक निरीक्षण कर प्रवासी श्रमिकों के भोजन, बसों, सुविधाओं आदि व्यवस्थाओं का जायजा लिया.

सोनभद्र : लॉकडाउन के तीसरे चरण में एक प्रवासी श्रमिक के पॉजीटिव होने के बाद लोगों को ये उम्मीद थी कि जनपद में कोरोना का कहर नहीं होगा लेकिन प्रवासी श्रमिकों के आगमन से जिले में सोमवार को दो और पॉजीटिव केस मिल गए. इस तरह जिले में कोरोना पॉजीटिव की संख्या तीन हो गई है.

राब‌र्ट्सगंज ब्लाक के उरमौरा स्थित जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान को भी ट्रांजिट प्वाइंट बनाया गया है. वाहन, पैदल व अन्य क्वारंटाइन सेंटर से गृह जनपद भेजने से पहले इस ट्रांजिट प्लाइंट पर प्रवासी श्रमिकों की थर्मल स्क्रीनिग कराई जा रही और भरपेट भोजन कराने के बाद परिवहन निगम की बसों से सभी को उनके गृह जनपद के राज्यों की सीमा पर पहुंचाया जा रहा है. सोमवार की सुबह 10 बजे जिलाधिकारी एस राजलिगम व पुलिस अधीक्षक आशीष श्रीवास्तव जांच के लिए पहुंचे. यहां थर्मल स्क्रीनिग में शासन से जारी गाइडलाइन का पालन हो रहा था लेकिन प्रवासी श्रमिकों के पंजीयन के लिए बनाए गए काउंटर से लेकर भोजन कराने तक में जगह-जगह खामियां ही मिलीं. भोजन लेने के बाद प्रवासी श्रमिक जत्थे में जगह-जगह बैठकर पेट की आग बुझाते रहे लेकिन शारीरिक दूरी का पालन नहीं किया जा रहा था. तमाम प्रवासी बिना मास्क ही भोजन लेते देखे गए. इस संबंध में मुख्य चिकित्साधिकारी डा. एसके उपाध्याय ने कहा कि हल्की सी चूक भारी पड़ सकती है. कदम-कदम पर एहतियात बरतने की जरूरत है.

इन ट्रांजिट सेंटरों का किया निरीक्षण

जिलाधिकारी एस राजलिगम व पुलिस अधीक्षक आशीष श्रीवास्तव ने जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान उरमौरा के अलावा आरआर पॉलीटेक्निक कॉलेज, डीएवी कॉलेज का आकस्मिक निरीक्षण कर प्रवासी श्रमिकों के भोजन, बसों, सुविधाओं आदि व्यवस्थाओं का जायजा लिया.

Check Also

लखटकिया इनामी गिरफ़्तार

प्रयागराज मे पुलिस प्रशासन के तब हाथ पाव फूले जब उन्हे पता लगा की 1लाख …