बच्चे की पैर हिलाने या नाखून चबाने की आदत ऐसे होगी दूर


कई बार देखा गया है कि बच्चों को जाने-अनजाने नाखून चबाना, दांत पीसना या बेवजह पैर हिलाने की आदत पड़ जाती है. अभिभावक इसे मामूली समझ नजरअंदाज कर देते हैं, जोकि सही नहीं है. मगर, लंबे समय तक ऐसा करने से सेहत को नुकसान होता है. चलिए हम आपको बताते हैं कि बच्चों में स्टिमिंग का आदत को कैसे कंट्रोल कर सकते हैं.
बच्चों में नाखून चबाना, बालों को घुमाना, पैर-हाथ हिलाने की आदतों को इन आदतों को ऑटिज्म से जुड़ा माना जाता है. हालांकि अगर समय रहते अभिभावक कुछ उपाये करें तो उनकी ये आदतें छुड़वाई भी जा सकती है.
इसने कई प्रकार के नुकसान होते हैं.
1 गंदगी से भरे नाखून जब मुंह में जाते हैं तो इससे बच्चों को इंफेक्शन, दांत कमजोर, मसूड़ों की बीमारियां, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल इंफेक्शन्स, डायरिया और पेट दर्द की समस्या हो सकती है.
2 पैर हिलाने की आदत से लगातार पैरों में दर्द व सनसनी, खिंचाव, भारीपन,, कमजोर मांसपेशियां और पैरों में चुभन महसूस होने लगती है. वहीं, इससे जोड़ कमजोर और ब्लड सर्कुलेशन बिगड़ने का डर भी रहता है.
3 लंबे समय तक उंगलियां चटकाने से गठिया रोग की समस्या भी हो सकती है. दरअसल, ये हडि्डयां एक दूसरे से जुड़ी होती है और उंगलियां चटकाने से इनके बीच मौजूद द्रव कम होता जाता है, जिससे बच्चे इस बीमारी की चपेट में आ सकते हैं.
नाखून चबाने की आदत
बच्चों की उंगलियों में नीम या लौंग का तेल लगा दें. इसका स्वाद कड़वा होता है, जिससे बच्चे की नाखून चबाने की आदत छोड़ देती है.
बच्चों को व्यस्त रखें. उनसे ड्रांइग करवाएं या हाथों की कोई भी एक्टिविटी करवाएं. अगर बच्चे पढ़ते या टीवी देखते समय ऐसा करते हैं तो उन्हें खानपान में व्यस्त रखें.
पैर हिलाने पर तुरंत टोकें
जैसे ही बच्चे पैर हिलाने लगे तो उन्हें तुरंत टोक दें. आपके बार-बार ऐसा करने से उनकी आदत दूर हो जाएगी. हो सकता है बच्चा ऐसा स्ट्रेस की वजह से कर रहे हों. ऐसे में उन्हें तनावमुक्त रखने के लिए फिजिकल एक्टिवीटी ज्यादा करवाएं और उन्हें व्यस्त रखें.
योग से दूर होगा स्ट्रेस
आपका बार-बार बालों से खेलता है तो उन्हें टोक दें और समझाएं कि ये गलत है. शुरु से ही बच्चे को तनाव मुक्त और रखने के लिए योगा करवाएं.

Check Also

सिवनी जिले में भूकंप के दो बार झटके महसूस हुए

आप यहां हैं :Home » प्रादेशिक » सिवनी जिले में भूकंप के दो बार झटके …