प्लेऑफ की रेस में बने रहने के लिए उतरेगी चेन्नई (प्रीव्यू)

Photo of author

अहमदाबाद,9 मई शुक्रवार को अहमदाबाद में होने वाले आईपीएल 2024 के अहम मैच में पिछले सीज़न के दो फ़ाइनलिस्ट का आमना सामना होगा. इस सीज़न हुई भिड़ंत में चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) ने घर पर गुजरात टाइटंस (जीटी) को पटखनी दी थी. एक तरफ़ सीएसके के सामने अंतिम चार के दावे को मज़बूत करने की चुनौती है तो वहीं दूसरी ओर जीटी के सामने अंतिम चार की रेस में ख़ुद को बनाए रखने की चुनौती है.

क्या पिछले फ़ाइनल का प्रदर्शन दोहराएंगे सुदर्शन?

पिछली बार जब दोनों टीमों का सामना इस मैदान पर हुआ था तब साई सुदर्शन की 96 रनों की पारी की बदौलत ही जीटी एक बड़ा स्कोर खड़ा करने में सफल हुई थी. सीएसके की तेज़ गेंदबाज़ी आक्रमण के दो अहम किरदार मथिशा पथिराना और मुस्तफ़िज़ुर रहमान उपलब्ध नहीं हैं, ऐसे में इसका फ़ायदा सुदर्शन को मिल सकता है. पिछले आईपीएल फ़ाइनल और इस सीज़न खेले गए दोनों मैचों में सुदर्शन ही अपनी टीम के टॉप स्कोरर थे और दोनों ही बार पथिराना ने ही उन्हें पवेलियन का रास्ता दिखाया था.

सीएसके के तुषार देशपांडे और रवींद्र जडेजा से सुदर्शन का सामना हो चुका है और दोनों में से कोई भी उन्हें अब तक आउट नहीं कर पाया है. देशपांडे के ख़िलाफ़ सुदर्शन ने 214 जबकि जडेजा के ख़िलाफ़ उन्होंने 152 के स्ट्राइक रेट से रन बनाए हैं.

कौन कराएगा गिल की वापसी?

शुभमन गिल इस समय अच्छी लय में नज़र नहीं आ रहे हैं. हालांकि देशपांडे के ख़िलाफ़ उनके आंकड़े ऐसे हैं कि वह पहली गेंद से ही टूट पड़ सकते हैं. देशपांडे के ख़िलाफ़ गिल ने 161 के स्ट्राइक रेट से 58 रन बनाए हैं. हालांकि सीएसके के पास एक ऐसा गेंदबाज़ भी है जो गिल को फ़ॉर्म में वापस आने से रोक सकता है. शार्दुल ठाकुर गिल को तीन बार अपना शिकार बना चुके हैं.

गायकवाड़ पर एक बार फिर निर्भर रह सकती है सीएसके

सीएसके इस सीज़न बल्लेबाज़ी में अपने कप्तान ऋतुराज गायकवाड़ पर ही अधिक निर्भर दिखी है. इसकी बड़ी वजह सीएसके के शीर्ष क्रम का उम्मीदों पर खरा ना उतर पाना भी है. जीटी के ख़िलाफ़ आंकड़े भी यही कहते हैं कि एक बार फिर सीएसके को बल्लेबाज़ी में अपने कप्तान की ज़रूरत पड़ सकती है. गायकवाड़ ने राशिद ख़ान के ख़िलाफ़ 163 के स्ट्राइक रेट से 108 रन बनाए हैं जबकि आठ पारियों में राशिद ने उन्हें दो बार अपना शिकार बनाया है.

जीटीके लिए तुरुप का इक्का साबित हो सकते हैं राशिद

पिछले सीज़न मोहित शर्मा जीटी के आक्रमण की अहम कड़ी थे. उन्होंने महेंद्र सिंह धोनी को तीन बार आउट भी किया लेकिन इस बार वह अपनी लय में नज़र नहीं आ रहे हैं. राशिद जीटी के लिए गेंदबाज़ी में तुरुप का इक्का इसलिए भी साबित हो सकते हैं. पंजाब किंग्स के ख़िलाफ़ अपने ऑलराउंड प्रदर्शन से प्रभावित करने वाले जडेजा राशिद के ख़िलाफ़ महज़ 71 के स्ट्राइक रेट से रन बना पाते हैं. वहीं धोनी का भी स्ट्राइक रेट राशिद के ख़िलाफ़ सिर्फ़ 68 का है. धोनी को तो राशिद एक बार अपने जाल में फंसा भी चुके हैं.

शिवम दुबे को स्पिन का बढ़िया हिटर माना जाता है. हालांकि वह भी पिछले कुछ मैचों से अपने रंग में नहीं दिख रहे हैं. राशिद दुबे को भी एक बार अपना शिकार बना चुके हैं और मोईन अली को तो राशिद चार बार पवेलियन भेजने में सफल हो चुके हैं.

आरआर/