पीएम मोदी जी-20 शिखर सम्मेलन में अफगान संकट पर संयुक्त दृष्टिकोण अपनाने पर दे सकते हैं बल

नई दिल्ली (New Delhi) . प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) इटली में 30 अक्टूबर से शुरू होने जा रहे दो दिवसीय जी-20 शिखर सम्मेलन में अफगानिस्तान के वर्तमान हालात का सामना करने, जलवायु परिवर्तन की चुनौतियों से निपटने और कोरोना महामारी (Epidemic) को लेकर संयुक्त वैश्विक दृष्टिकोण अपनाने पर बल दे सकते हैं. प्रधानमंत्री की यात्रा से जुड़े जानकारों ने रविवार (Sunday) को यह बात कही. मोदी बृहस्पतिवार या शुक्रवार (Friday) को इटली और स्कॉटलैंड की यात्रा पर रवाना हो सकते हैं.

जी-20 समूह के सदस्य देशों के राष्ट्राध्यक्षों और सरकारी प्रमुखों का यह शिखर सम्मेलन रोम में 30 ओर 31 अक्टूबर को होगा. इसमें सदस्य देशों के नेता व समूह और कुछ अंतरराष्ट्रीय व क्षेत्रीय संगठनों के प्रतिनिधि शिरकत करेंगे. इस सम्मेलन में प्रतिनिधियों के कोरोना (Corona virus) महामारी (Epidemic) की चुनौतियों के बाद सुधार, जलवायु परिवर्तन और विश्व के विभिन्न हिस्सों में गरीबी व असमानता जैसी प्रमुख चुनौतियों पर चर्चा की उम्मीद है. एक जानकार ने बताया कि अफगानिस्तान की स्थिति को लेकर इस सम्मेलन में प्रमुखता से चर्चा हो सकती है. प्रधानमंत्री मोदी इस सम्मेलन में विभिन्न वैश्विक चुनौतियों पर भारत का रुख सामने रख सकते हैं और अफगानिस्तान की स्थिति पर एक वैश्विक दृष्टिकोण अपनाने का आह्वान कर सकते हैं. साथ ही वह जलवायु परिवर्तन और कोरोना महामारी (Epidemic) के खिलाफ एकजुटता की भी बात कर सकते हैं.

Check Also

इस हफ्ते 10 करोड़ हो जाएगी असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के ई-श्रम पोर्टल पर पंजीकरण की संख्या

नई दिल्ली (New Delhi) . सरकार के ई-श्रम पोर्टल पर पंजीकृत असंगठित श्रमिकों का आंकड़ा …