पाकिस्तान में राष्ट्रपतित्व शासन प्रणाली लाने की योजना का विरोध करेगी पीपीपी

इस्लामाबाद, 17 अप्रैल (उदयपुर किरण). पाकिस्तान पीपल्स पार्टी (पीपीपी) देश में राष्ट्रपतित्व शासन प्रणाली लाने की किसी भी योजना का विरोध करेगी. ये बातें पार्टी के सह-अध्यक्ष और पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी ने कहीं.

समाचार पत्र डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक, फर्जी बैंक खाते मामले में जवाबदेही अदालत में पेश होने के बाद जरदारी ने मंगलवार को संवाददाताओं से कहा, “इस व्यवस्था के प्रति हमलोगों का रूझान नहीं है. उन्हें प्रयास करने दीजिए, हम उसे रोक देंगे. ‘’ विदित हो कि पाकिस्तान के राजनीतिक और सामाजिक हल्के में राष्ट्रपति शासन प्रणाली अपनाए जाने को लेकर अफवाहों का बजार गर्म है.

हालांकि सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने इसका खंडण किया है, लेकिन सोशल मीडिया पर यह मुद्दा छाया हुआ है. पीपीपी के अलावा पाकिस्तान मुस्लिम लीग – नवाज समेत अमूमन सभी पार्टियां इस विचार के खिलाफ हैं. इन पार्टिर्यों का कहना है कि ऐसे किसी प्रयास से देश की एकता और अखंडता खतरे में पड़ सकती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*