दिल्ली के कंटेनमेंट जोन में बिना लक्षण वालों की भी हो रही जांच · Indias News

दिल्ली के कंटेनमेंट जोन में बिना लक्षण वालों की भी हो रही जांच


नई दिल्ली (New Delhi). कंटेनमेंट जोन में अब जांच में तेजी लाने के साथ उसका दायरा भी बढ़ाया जा रहा है. केंद्र सरकार (Government) के निर्देश पर अब स्वास्थ्य विभाग बगैर लक्षण वालों लोगों की भी एंटीजन जांच करेगा. जिससे संक्रमण को फैलने की संभावनाओं को खत्म किया जाएगा. दिल्ली में अभी 437 से अधिक कंटेनमेंट जोन है जहां पर 2.50 लाख के करीब आबादी है.

दिल्ली सरकार (Government) के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक अभी कंटेनमेंट जोन में जो सर्वे चल रहा था उसमें संक्रमित व्यक्ति के सीधे संपर्क में रहने वाले या फिर लक्षण वाले व्यक्ति की ही एंटीजन जांच की जा रही है. मगर अब बगैर लक्षण वालों लोगों की भी जांच होगी. हालांकि बगैर लक्षण वाले सभी लोगों के बजाएं यह जांच रैंडम होगी. जिससे यह पता चलेगा कि संक्रमण का दायरा कितना फैल रहा है. ऐसा तो नहीं है कि बगैर लक्षण वाले संक्रमित भी तो नहीं है. माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाएं जाने के बाद ऐसे बगैर लक्षण वाले लोगों को चिन्हित करके जांच करना आसान हुआ है.

दरअसल पहले कंटेनमेंट जोन बड़े-बड़े होते थे. जहां पर बड़ी आबादी होती थी. मगर अब इसे माइक्रो कंटेनमेंट जोन में तब्दील किया गया है. मसलन जिस घर में केस आया है सिर्फ उसे ही सील किया जा रहा है. जिसके बाद उस घर में रहने वाले लोगों की जांच के अलावा उस इमारत में रहने वाले बगैर लक्षण वाले लोगों की रैंडम जांच करना आसान होता है. इसमें कंटेनमेंट जोन के अलावा उसके आस-पास जिसे बफर जोन कहते है वहां पर जांच की जा रही है.

स्वास्थ्य निदेशालय ने सभी जिलाधिकारियों को जांच में तेजी लाने के लिए सभी जिले में 7-7 जांच सेंटर बढ़ाने का निर्देश दिया है. अभी दिल्ली में कुल 193 जांच सेंटर चल रहे है. यह कंटेनमेंट जोन के आस-पास स्थित है. अब बी सभी 11 जिलों में इसे बढ़ाने को कहा है, ये होता है तो 77 जांच सेंटर बढ़ जाएंगे. साथ ही यह भी कहा है कि अभी तक जो रोजोना 1000 जांच करने का लक्ष्य था उसे 2000 करने पर काम किया जाएं.

Check Also

कोरोना से निपटने के लिए बेंगलुरु के हर जोन में प्रभारी के तौर पर मंत्री होंगे नियुक्त: कर्नाटक सरकार

बेंगलुरु.बेंगलुरु में कोविड-19 के मामले बढ़ने के बीच मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने बृहस्पतिवार को …