जीडीपी, पीएमआई आंकड़ों से तय होगी बाजार की दशा व दिशा

नयी दिल्ली। बाजार विशेषज्ञों का मानना है कि इस सप्ताह घरेलू शेयर बाजारों की दशा व दिशा जीडीपी व पीएमआई के आंकड़ों पर निर्भर करेगी और स्टेंडर्ड एंड पुअर्स के फैसले का असर भी शुरू में देखने को मिल सकता है।

जियोजित फिनांशल सर्विसेज के अनुसंधान प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘घरेलू बुनियाद बेहतर हैत तथा एसएंडपी द्वारा सकारात्मक रेटिंग उन्नयन से विदेशी निवेशकों की धारणा और सुधरेगी। रेटिंग में कोई उन्नयन नहीं होने से भारतीय रुपये की शुरुआत कमजोर हो सकती है जिसका फौरी असर शेयर बाजार के प्रदर्शन पर पड़ेगा।’ उल्लेखनीय है कि स्टेंडर्ड एंड पुअर्स ने शुक्रवार को भारत के लिए सरकारी रेटिंग को स्थिर परिदृश्य के साथ्ज्ञ बीबीबी माइनस पर अपरिवर्तित रखा।

बीबीबी रेटिंग ‘रद्दी के दर्जे’ से एक पायदान ऊपर है।

मुख्य आर्थिक सलाहकार संजीव सान्याल ने रेटिंग में कोई बदलाव नहीं किए जाने को थोड़ा अनुचित करार दिया और कहा निम्न प्रति व्यक्ति आय कर्ज चुकाने की हमारी इच्छा या क्षमता को परिलक्षित नहीं करती है।

एचडीएफसी सिक्युरिटीज में प्रमुख प्राइवेट क्लाइंट ग्रुप वी के शर्मा ने कहा, ‘शुक्रवार को बाजार बंद होने के बाद एसएंडपी ने भारत की रेटिंग को उसी स्तर पर रखने की घोषणा की। यह छोटा झटका है। अगर रेटिंग में सुधार होता तो बेहतर होता। सोमवार को थोड़ा झटका लग सकता है लेकिन इससे बाजार की दिशा नहीं बदलेगी जो कि उंचाई की ओर जा रहा है।’ शेयर बाजारों की दशा व दिशा जीडीपी व विनिर्माण क्षेत्र के लिए पीएमआई आंकड़ों से भी तय होगी जो अगले सप्ताह आने हैं।

साम्को सिक्युरिटीज के संस्थापक जिमीत मोदी ने कहा, ‘तापमान में गिरावट तथा चुनावी सरगर्मी जोर पकड़ने के बीच बाजार किसी सार्थक दिशा में बढ़ने से पहले थोड़ा विराम लेगा। राज्यों में चुनाव, आरबीआई की एमपीसी की बैठक तथा अमेरिकी फेडरल रिजर्व की बैठक सहित कई घटनाएं हैं जो बाजार के रुख को प्रभावित कर सकती हैं।’ कोटक सिक्युरिटीज के उपाध्यक्ष पीसीजी रिसर्च संजय जोरबड़े ने कहा, ‘प्रधानमंत्री के गृह राज्य गुजरात में विधानसभा चुनाव के परिणाम बाजार के लिए बहुत महत्वपूर्ण होंगे क्योंकि राज्य में कमजोर प्रदर्शन को उनकी लोकप्रियता में गिरावट के रूप में देखा जाएगा। ’ बीते सप्ताह तीस शेयर आधारित सेंसेक्स 336.44 अंक चढ़ा जबकि निफ्टी 106.10 अंक मजबूत हुआ।

About Editor

Close