जालसाजी व रंगदारी के आरोप में राहुल व प्रियंका गांधी के करीबी अल्लू मियां लखनऊ में गिरफ्तार

लखनऊ (Lucknow) . कांग्रेस पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी महासचिव और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा के करीबी रहे अल्लू मियां को लखनऊ (Lucknow) में शनिवार (Saturday) रात को पुलिस (Police) ने गिरफ्तार किया है. लखनऊ (Lucknow) में पुलिस (Police) ने अल्लू मियां को फन मॉल के पास से पकड़ा. रायबरेली (Bareilly) के साथ ही अमेठी की राजनीति में कांग्रेस की तरफ से बेहद सक्रिय राहुल गांधी के करीबी अल्लू मियां को लखनऊ (Lucknow) में जमीन कब्जा करने, जालसाजी तथा रंगदारी मांगने के आरोप में वजीरगंज पुलिस (Police) ने शनिवार (Saturday) देर रात गिरफ्तार किया. अल्लू मियां शनिवार (Saturday) को लखनऊ (Lucknow) में प्रियंका गांधी वाड्रा की कांग्रेस प्रतिज्ञा यात्रा में शामिल होने आया था. उसके खिलाफ जमीन कब्जा करने, जालसाजी, रंगदारी मांगने समेत अन्य धाराओं में वजीरगंज कोतवाली में मुकदमा दर्ज है.
अमेठी के जगदीशपुर के निहालगढ़ के निवासी कांग्रेस नेता मोहम्मद रफीक उर्फ अल्लू मियां की गिरफ्तारी की पुष्टि इंस्पेक्टर वजीरगंज धनंजय पांडेय ने की है. इंस्पेक्टर वजीरगंज ने बताया कि बीती आठ मई को अल्लू मियां, उनकी पत्नी मेहरुनिशा और बेटे आदिल के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ था.

मुकदमा कैसरबाग के कसाईबाड़ा में रहने वाले वैभव श्रीवास्तव ने दर्ज कराया था. वैभव ने तहरीर में आरोप लगाया था कि उन्होंने अगस्त 2019 में गोमतीनगर के विशालखंड में रहने वाली मंजू रावत से उनका खरगापुर स्थित प्लाट खरीदा था. वैभव के साथ ही उस प्लाट में मित्र माजिन खान भी पार्टनर थे. माजिन खान और वह प्लाट पर अपार्टमेंट बनवा रहे थे. इस बीच अल्लू मियां के बेटे आदिल ने दावा किया कि यह प्लाट तो उनका है. उसने फर्जी दस्तावेज के माध्यम से किसी से प्लाट की रजिस्ट्री कराने का दावा किया. इस बात को लेकर विवाद हुआ था. प्लाट छोडऩे के लिए उसने रुपयों की मांग की. मांग पूरी न होने पर धमकी दी थी. वैभव ने बताया कि धमकी से वह बहुत तनाव में था. उसने अधिकारियों को मामले की जानकारी दी. वैभव का कहना है कि प्लाट ममता सहकारी गृह निर्माण समिति का था.

पुलिस (Police) के मुताबिक विवाद के बाद कांग्रेस नेता अल्लू ने दिसंबर माह में वैभव को फोन करके समझौते के लिए बुलाया था. वहां पर अल्लू ने धमकी दी थी. उसने निर्माणधीन अपार्टमेंट से दो फ्लैट बेटे और पत्नी के नाम करने को कहा था. वैभव और पार्टनर जब तैयार नहीं हुए तो धमकी दी थी. इसके बाद वैभव ने अधिकारियों से शिकायत की. अधिकारियों के आदेश पर पूरे मामले की जांच एसीपी चौक आइपी सिंह को सौंपी गई. जांच में वैभव के सभी आरोप सही पाए गए. इसके बाद अल्लू उनकी पत्नी और बेटे के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था. वजीरगंज पुलिस (Police) के मुताबिक अल्लू मियां पांच माह से धोखाधड़ी और रंगदारी के मामले में फरार चल रहे थे. अल्लू मियां शनिवार (Saturday) को कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा की प्रतिज्ञा यात्रा में शामिल लखनऊ (Lucknow) आए थे. इसी बीच पुलिस (Police) ने सूचना मिलते ही फन माल के पास से गिरफ्तार कर लिया. अल्लू मियां अमेठी में लोकसभा (Lok Sabha) के साथ ही विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) के दौरान राहुल गांधी तथा प्रियंका गांधी के बेहद करीब दिखता था. उनकी सभाओं में भी वह सक्रिय भूमिका में रहता है.
 

Check Also

इस हफ्ते 10 करोड़ हो जाएगी असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के ई-श्रम पोर्टल पर पंजीकरण की संख्या

नई दिल्ली (New Delhi) . सरकार के ई-श्रम पोर्टल पर पंजीकृत असंगठित श्रमिकों का आंकड़ा …