खिलते हैं गुल यहां, खिलके बिखरने को… शशि कपूर के टॉप 10 गाने

मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में 79 साल की उम्र में शशि कपूर का निधन हुआ। 2014 में शशि कपूर को दादा साहब फाल्के अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था। जबकि 2011 में उन्हें पद्म भूषण अवॉर्ड से नवाज़ा गया था। शशि ने अभिनय का अपना करियर की शुरुआत 1944 में अपने पिता पृथ्वीराज कपूर के पृथ्वी थिएटर के नाटक ‘शकुंतला’ से शुरू की थी। शशि कपूर का असली नाम बलबीर राज कपूर था। शशि कपूर ने 160 से ज्यादा फिल्मों में अभिनय किया।

शशि कपूर पर फिल्माएं गाए 10 लोकप्रिय गानें

फिल्म ‘कन्यादान’ का गाना ‘मेरी ज़िंदगी में आते तो कुछ और बात होती’

फिल्म ‘कन्यादान’ का गाना ‘लिखे जो ख़त तुझे, वो तेरी याद में’

फिल्म ‘जब-जब फूल खिले’ का गाना ‘परदेसियों से ना अंखियां मिलाना’

फिल्म ‘शर्मिली’ का गाना ‘खिलते हैं गुल यहां, खिलके बिखरने को’

फिल्म ‘दीवार’ का गाना ‘कह दूं तुम्हें या चुप रहूं, दिल में मेरे आज क्या है’

फिल्म ‘हसीना मान जाएगी’ का गाना ‘बेख़ुदी में सनम, उठ गए जो कदम’

फिल्म ‘हसीना मान जाएगी’ का गाना ‘चले थे साथ मिलके, चलेंगे साथ मिलकर’

फिल्म ‘शर्मिली’ का गाना ‘ओ मेरी, ओ मेरी, ओ मेरी शर्मिली’

फिल्म ‘आ गले लग जा’ का गाना ‘तेरा मुझसे है पहले का नाता कोई, यूं ही नहीं दिल लुभाता कोई’

फिल्म ‘चोर मचाए शोर’ का गाना ‘ले जाएंगे, ले जाएंगे, दिलवाले दुल्हनियां ले जाएंगे’

About Editor

Close