किम से मिलकर अमेरिका पहुंचे ट्रंप ने कहा- उत्तर कोरिया से नहीं परमाणु खतरा

वॉशिंगटन:अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने स्वदेश लौटने के बाद किम जोंग-उन के साथ सिंगापुर में हुई अपनी बैठक का उल्लेख करते हुए कहा कि उत्तर कोरिया से अब कोई परमाणु खतरा नहीं है जैसा कि पहले समझा जाता था. उन्होंने साथ ही अपने पूर्ववर्ती बराक ओबामा पर तंज कसते हुए कहा कि उन्होंने कहा था कि उत्तर कोरिया सबसे बड़ी समस्या है, लेकिन सिंगापुर में हुई बैठक के बाद ऐसा नहीं है.
ट्रंप ने ट्वीट किया, ‘लंबी यात्रा के बाद अभी लौटा, लेकिन अब हर कोई उस दिन से ज्यादा सुरक्षित महसूस कर सकता है जिस दिन मैंने पद ग्रहण किया था. उत्तर कोरिया से अब परमाणु खतरा नहीं है. किम जोंग-उन के साथ मेरी बैठक रोचक थी और बेहद सकारात्मक अनुभव रहा. उत्तर कोरिया में भविष्य की काफी संभावनाएं हैं.’
अगले ट्वीट में ट्रंप ने ओबामा पर हमला करते हुए कहा, ‘मेरे पद ग्रहण करने से पहले लोग मानते थे कि हम उत्तर कोरिया के साथ युद्ध करने जा रहे हैं. राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा कि उत्तर कोरिया सबसे बड़ी और खतरनाक समस्या है. अब नहीं- रात में अच्छी नींद लीजिए.’
गौरतलब है कि अमेरिका और नॉर्थ कोरिया के बीच संबंधों को सामान्य बनाने तथा कोरिया प्रायद्वीप में पूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण के लिए ट्रंप और किम के बीच ऐतिहासिक वार्ता हुई है. मीटिंग के बाद नॉर्थ कोरिया के शासक किम ने नाभिकीय हथियारों के पूर्ण निरस्त्रीकरण का वादा किया है. हालांकि ट्रंप ने यह भी कहा कि नॉर्थ कोरिया पर प्रतिबंध जारी रहेंगे. इसके बदले अमेरिका ने भी नॉर्थ कोरिया की सुरक्षा की गारंटी ली.
दक्षिण कोरिया के साथ नहीं होगा सैन्य अभ्यास
उधर, ट्रंप ने ऐलान किया कि अब अमेरिका कोरिया प्रायद्वीप में दक्षिण कोरिया के साथ सैन्य अभ्यास नहीं करेगा. ट्रंप ने कहा, ‘हम वॉर गेम्स को बंद कर देंगे, जिससे हमारा काफी पैसा भी बचेगा. दरअसल, नॉर्थ कोरिया दावा करता रहा है कि अमेरिका हमले की तैयारी कर रहा है.’ उन्होंने आगे कहा कि वह वॉर गेम्स को रोकने पर सहमत हुए क्योंकि उन्हें लगता है कि यह काफी भड़काऊ है.
मुलाकात से दक्षिण कोरिया, चीन खुश
ट्रंप और किम की मुलाकात से दक्षिण कोरिया और चीन ने खुशी जाहिर की. दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जेई-इन ने ट्रंप और किम के बीच हुई ऐतिहासिक वार्ता के नतीजे की मंगलवार को सराहना की और इसे अंतिम शीत युद्ध की समाप्ति बताया. मून ने एक बयान में कहा, ‘मैं अपनी हार्दिक शुभकामनाएं देता हूं और उत्तर कोरिया-अमेरिका की ऐतिहासिक बैठक की सफलता का स्वागत करता हूं.’ उन्होंने कहा, ’12 जून का सेंटोसा समझौता एक ऐतिहासिक घटना के रूप में दर्ज होगा, जिसने पृथ्वी पर अंतिम शीत युद्ध को समाप्त कर दिया.’ उधर, चीन ने शिखर बैठक की प्रशंसा करते हुए उत्तर कोरिया से अपील की है कि कोरियाई प्रायद्वीप को लेकर चल रहे तनाव को सुलझाने के लिए उन्हें पूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण के लिए तैयार हो जाना चाहिए.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*