कावड़ यात्रा के साथ मनेंगे तीज, नागपंचमी और रक्षा बंधन पर्व

Bhopal/सीहोर, 13 जुलाई (उदयपुर किरण). आगामी 17 जुलाई से शुरू हो रहा सावन मास इस बार शुभ संयोग के साथ मनाया जाएगा. शास्त्रों के अनुसार देवशयनी एकादशी से देव उठनी एकादशी तक भगवान शंकर सृष्टि का संचालन करते हैं और इन चार माह में श्रावण माह भगवान शिव को अत्यंत प्रिय है. इसीलिए इस माह श्रद्धालुओं द्वारा भगवान की पूजन-अर्चन और रुद्राभिषेक किया जाता है. श्रावण मास में कावड़ यात्रा के साथ तीज, नागपंचमी और रक्षाबंधन पर्व शुभ संयोगों में मनाए जाएंगे.

ज्योतिषाचार्य पंडित सुनील शर्मा ने बताया कि इस वर्ष आगामी, 17 जुलाई बुधवार से सावन माह प्रारंभ होगा, जो कि 15 अगस्त गुरुवार तक रहेगा. इस बार सावन माह पूरे तीस दिन का रहेगा, जिसमें चार सोमवार होंगे. सावन माह में शिव भक्त भगवान भोलेनाथ की भक्ति में डूबे रहते हैं और उन्हें प्रसन्न करने के लिए रुद्राभिषेक, कावड़ यात्रा, भजन-कीर्तन आदि धार्मिक अनुष्ठान किये जाते हैं. उन्होंने बताया कि सनातन परंपरा में कावड् यात्रा का विशेष महत्व है. हर साल शिव भक्तों द्वारा सुख-समृद्धि की कामना के कावड़ यात्रा की जाती है. सावन माह में भक्त गंगा जल नर्मदा जल या फिर किसी नदी विशेष के शुद्ध जल से भगवान शंकर का जलाभिषेक करते हैं.

उन्होंने बताया कि सावन माह में भक्तों द्वारा भगवान शंकर, माता पार्वती, कार्तिकेय, भगवान गणेश, नंदीगण और सर्पदेव की विशेष पूजा अर्चना की जाती है. पंडित सुनील शर्मा के अनुसार इस बार सावन माह में दूसरे और चौथे सोमवार को प्रदोष रहेगा. धार्मिक मान्यता अनुसार सोमवार को पढऩे वाले प्रदोष को सोम प्रदोष कहते हैं. सावन माह में हरियाली अमावस्या, हरियाली तीज, नागपंचमी, रक्षा बंधन आदि धार्मिक त्यौहार आते हैं. इस बार सावन का प्रथम दिन सूर्य के उत्रराषाढ़ नक्षत्र और विश्व कुंभ योग के साथ प्रारंभ होगा. इस बार हरियाली अमावस्या पर पंचमहायोग का संयोग रहेगा. यह संयोग 125 वर्ष होगा. एक अगस्त को पहला सिद्धियोग दूसरा शुभयोग, तीसरा गुरूपुष्यामृत योग, चौथा सवार्थ सिद्धियोग रहेगा और पांचवा अमृतसिद्धि योग का संयोग है. इस दिन हरियाली अमावस्या मनाई जाएगी. श्रावण मास में तीसरे सोमवार को नागपंचमी पर्व रहेगा. नागपंचमी और सोमवार दोनों ही दिन भगवान शंकर की आराधना के लिए श्रेष्ठ होते हैं. श्रावण मास में रक्षा बंधन श्रवण नक्षत्र के संयोग में मनाया जाएगा.

Click & Download Udaipur Kiran App to read Latest Hindi News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*