कर्नाटक के 10वीं कक्षा बोर्ड परिणाम में लड़कियों ने मारी बाजी

Photo of author

बेंगलुरु, 9 मई . कर्नाटक स्कूल एग्जामिनेशन एंड असेसमेंट बोर्ड ने गुरुवार को 10वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा के नतीजों की घोषणा की. इन नतीजों में लड़कियों ने लड़कों से बेहतर प्रदर्शन किया. वहीं ग्रामीण इलाकों के छात्र आगे रहे.

राज्‍य में इस साल कुल मिलाकर 73.40 प्रतिशत छात्रों ने परीक्षा पास की. परीक्षा देने वाले 8.69 लाख छात्रों में से 6.31 लाख छात्र उत्तीर्ण हुए.

81.11 प्रतिशत परीक्षा उत्तीर्ण करने के साथ छात्राओं ने लड़कों पर बढ़त हासिल की. लड़कों का उत्तीर्ण प्रतिशत 65.90 रहा. ग्रामीण क्षेत्रों में कुल 74.17 प्रतिशत छात्र उत्तीर्ण हुए, जबकि शहरी क्षेत्रों में 72.83 प्रतिशत छात्र बोर्ड परीक्षा पास करने में सफल रहे.

उडुपी जिला 90 प्रतिशत परिणाम के साथ शीर्ष पर रहा, उसके बाद दक्षिण कन्नड़ (92.12 प्रतिशत) और शिवमोग्गा (88.67 प्रतिशत) जिले रहे. यादगीर जिला अंतिम स्थान पर रहा, जहां केवल 50.59 प्रतिशत छात्र बोर्ड परीक्षा उत्तीर्ण करने में सफल रहे.

उत्तरी कर्नाटक के बागलकोट जिले के मुधोल शहर में सरकार द्वारा संचालित मोरारजी देसाई आवासीय विद्यालय में पढ़ने वाली अंकिता बसप्पा कोन्नुरु कुल 625 में से 625 अंक हासिल कर टॉपर बनीं.

सात छात्रों ने 624 अंक हासिल किए, 14 ने 623 अंक हासिल किए. वहीं, 21 छात्रों ने 622 अंक हासिल किए, 44 ने 621 अंक और 44 छात्रों ने 625 में से 620 अंक हासिल किए.

बेंगलुरू दक्षिण जिले का परिणाम 79 फीसदी रहा और वह राज्य में 12वें स्थान पर रहा. बेंगलुरु उत्तरी जिले ने 77.09 प्रतिशत परिणाम हासिल किया और राज्य में 14वें स्थान पर रहा. बेंगलुरु ग्रामीण ने 83.67 प्रतिशत परिणाम प्राप्त किया और राज्य में 9वें स्थान पर रहा.

राज्य के कुल 78 स्कूलों में शून्य परिणाम आए और राज्य में कुल उत्तीर्ण प्रतिशत 10.49 प्रतिशत कम हो गया. 2023-24 में 83.89 प्रतिशत छात्र उत्तीर्ण हुए थे और इस बार छात्रों का उत्तीर्ण प्रतिशत 73.40 प्रतिशत रहा.

अनुसूचित जाति समुदाय के छात्रों में से 70.79 प्रतिशत ने परीक्षा उत्तीर्ण की और अनुसूचित जनजाति के 69.22 प्रतिशत छात्रों ने परीक्षा उत्तीर्ण की.

नतीजों की घोषणा स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग के प्रधान सचिव रितेश कुमार सिंह, केएसईएबी अध्यक्ष एन. मंजूश्री और निदेशक एच.एन. गोपालकृष्ण ने की.

एमकेएस/