अमरोहा में 24 घंटे के भीतर दो बच्चों की हत्या, रहस्यमय मौत से गांव में दहशत

Photo of author

अमरोहा, 10 मई . अमरोहा देहात थाना क्षेत्र के केतवाली पंडकी गांव में चौबीस घंटे के भीतर दो बच्चों की हत्या कर दी गई. मासूम बच्चों की रहस्यमय तरीके से मौत होने से गांव में कोहराम मच गया है.

रिपोर्ट के अनुसार, केतवाली पंडकी गांव में बीते 7 मई को गांव के ही रहने वाले विपिन सैनी का चार वर्ष का बेटा माहिर घर से लापता हो गया था. काफी ढूंढने के बाद वह नहीं मिला. शाम को लगभग 5 बजे गांव के ही रहने वाले एक किसान के बंद पड़े घर में उसकी लाश मिली, उसके गले और चेहरे पर निशान थे.

इसके बाद गांव में हड़कंप मच गया. लोगों ने मामले को एक हादसा मानते हुए माहिर का शव तालाब के किनारे दफना दिया. लेकिन उसके अगले ही दिन उसी गांव के दस वर्षीय एक बच्चे चिराग का शव भी इसी मकान में मिला. इसके बाद लोगों में दहशत फैल गई.

ग्रामीणों ने 24 घंटे के भीतर हुई दोनों बच्चों की मौत पर किसी तांत्रिक द्वारा तंत्र-मंत्र से हत्या किए जाने का अंदेशा जताया. उन्होंने कहा कि इस पूरे मामले में हमें शक है कि तंत्र-मंत्र के चक्कर में उनकी हत्या की गई है. इसी की जानकारी करने के लिए हम लोगों ने चिराग के शव का पोस्टमार्टम कराया, जिसमें उसकी गला घोंटकर हत्या की पुष्टि हुई है.

चिराग की हत्या की बात गांव में आग की तरह फैल गई. पहले मृत मिले माहिर के पिता विपिन सैनी ने अमरोहा के डीएम राजेश कुमार त्यागी से अपने बच्चे के शव को कब्र से बाहर निकलवाकर पोस्टमार्टम करवाने की मांग है.

विपिन सैनी ने कहा कि मेरे बेटे के शव को निकालकर उसका पोस्टमार्टम कराया जाए, ताकि पता चल सके की उसकी मौत कैसे हुई. हम लोग अधिकारियों से चाहते हैं कि जो लोग भी घटना के पीछे हैं, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए. मासूम बच्चों की हत्या के पीछे क्या वजह है, यह जानना बहुत जरूरी है.

डीएम राजेश कुमार त्यागी ने मृतक के पिता व ग्रामीणों की शिकायत पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी को जांच सौंपी है. फिलहाल गांव में दहशत का माहौल बना हुआ है. लोगों ने अपने-अपने बच्चों को घर से निकलने पर रोक लगा दी है.

सीओ अंजलि कटारिया ने बताया कि 8 मई को एक बच्चे के शव मिलने पर तहरीर मिली थी. मृतक चिराग के शव का पोस्टमार्टम कराया गया है. रिपोर्ट में उसकी गला दबाकर हत्या करने की बात सामने आई है. पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है मामले में जांच की जा रही है.

एफजेड/