अयोध्या आन्दोलन से जुड़ी कई हस्तियां कह चुकी अलविदा

लखनऊ, 06 दिसम्बर (उदयपुर किरण). निर्णायक दौर की ओर बढ़ रहे राम जन्म भूमि आन्दोलन को इस मुकाम तक पहुंचाने वाले कई पुरोधा अब इस दुनिया में नहीं है.
विवादित ढांचे को ध्वस्त होने के 26 वर्ष बीत गये. इन 26 वर्षों का यदि लेखा जोखा देखा जाये तो मामले को लेकर चले आन्दोलन में अग्रणी भूमिका निभाने वाले अशोक सिंहल, महन्त अवैद्यनाथ और परमहंस राम चन्द्र दास जैसी 13 से अधिक विभूतियां अब इस दुनिया में नहीं है.
विश्व हिन्दू परिषद ने 1984 में गोरक्षपीठाधीश्वर महंत अवैद्यनाथ की अध्यक्षता में श्री राम जन्म भूमि मुक्त यज्ञ समि​ति का गठन किया था. उन्हीं के नेतृत्व में आन्दोलन की शुरूआत हुई थी.समिति ने जनकपुरी से अयोध्या होते हुये दिल्ली तक निकाली राम जानकी रथ यात्रा ऐतिहासिक थी. यात्रा में राजनीतिक सीमायें टूट गयी थीं. भारतीय जनता पार्टी के अलावा कई कांग्रेसी और समाजवादियों ने रथयात्रा में शामिल होकर मंदिर निर्माण के लिये अपना समर्थन दिया था.
अयोध्या में सरयू तट के रेत पर पहली और ऐतिहासिक सभा हुई थी. राम जन्म भूमि को लेकर ​विश्व हिन्दू परिषद का पहला आन्दोलन था. शुरूआती दौर में आन्दोलन का नेतृत्व करने वाले अवैद्यनाथ जी अब इस दुनिया में नहीं हैं. आन्दोलन के प्राण रहे अशोक सिंहल भी कालकवलित हो चुके हैं.
अपने ओजस्वी भाषणों से जनान्दोलन को जन जन तक पहुंचाने वाले परमहंस राम चन्द्र दास की भी मृत्यु हो चुकी है. आन्दोलन के पीछे सर्वाधिक महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के तत्कालीन सरकार्यवाह हो.वे.शेषाद्रि ने भी देह त्याग दिया है.
इसी तरह आचार्य गिरिराज किशोर,ओंकार भावे,रमा शंकर अग्निहोत्री,जय प्रकाश अवस्थी,ठाकुर गुरूजन सिंह,गुलाब परिहार,मोरोपंत पिंगले,पलक झपकते हजारों कारसेवकों का पल भर में भोजन तैयार करवा देने वाले भोजनालय प्रमुख रहे धर्मनाथ सिंह और कारसेवकपुरम में व्यवस्था प्रमुख रहे राम बाबू अग्रवाल भी अब इस दुनिया में नहीं हैं.
इन्हीं 26 वर्षों में विवादित बाबरी मस्जिद के पैरोकारों ने भी अपने तीन प्रमुख स्तम्भ खोये हैं. बाबरी मस्जिद के मुद्दई रहे मोहम्मद हाशिम अंसारी,भारतीय विदेश सेवा से अवकाश ग्रहण करने के बाद इस आन्दोलन में कूदने वाले सैयद शहाबुद्दीन और अयोध्या में स्थानीय स्तर पर मुस्लिम पक्ष के स्तम्भ रहे मोहम्मद युनुस सिद्दीकी भी अब इस दुनिया में नहीं हैं.

http://udaipurkiran.in/hindi

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*