बंद पड़ी मेटल फैक्ट्री में तीन शावकों के साथ दिखी मादा तेंदुआ

राजसमंद. फरारा से देवड़ मार्ग पर बंदी पड़ी मेटल्स फैक्ट्री परिसर में शुक्रवार दिन में पुराने सीमेंट के चद्दरों के पीछे तेंदुए के तीन शावक दुबककर बैठे थे. वहीं आस-पास में मादा तेंदुआ दिखाई दिया. तेंदुए की हलचल से आस-पास के ग्रामीणों की भीड़ पहुंच गई. वहीं शाम को राजसमंद से वन विभाग की टीम पहुंची और शावकों को पिंजरे में कैद किया. पिंजरे को फैक्ट्री परिसर में ही रखकर मादा तेंदुए का इंतजार किया.

बताया कि सुंदरचा पंचायत के तहत फरारा-दोवड़ मार्ग पर शुक्रवार दिन में फैक्ट्री परिसर में से गुर्राने की आवाजें आ रही थी. इस पर कुछ ग्रामीणों ने फैक्ट्री की चार दीवारी के पार देखा तो तेंदुआ दिखाई दिया. वहीं मादा तेंदुआ फैक्ट्री परिसर में ही सीमेंट के चद्दरों के आस-पास ही घूमती रही. इस पर ग्रामीणों ने चद्दर की तरफ देखा तो दो तेंदुए के शावक दिखाई दिए. ग्रामीणों की भीड़ काफी बढ़ने से मादा तेंदुआ वहां से दूर झाड़ियों में छीप गई.

शाम को वन विभाग के डीएफओ फतहसिंह राठौड़, वनपाल पूर्णेश पारीक, सहायक वनपाल नैनाराम, वनरक्षक अशोक वैष्णव, सुरेश खटीक, लच्छीराम गाडरी मौके पर पहुंचे. विभाग के कर्मचारियों ने सीमेंट के चद्दर हटाकर तेंदुए के तीनों शावकों को जाल डालकर पिंजरे में कैद किया. पिंजरे के दूसरे मुंह को खोल दिया गया. तेंदुआ शावकों की गुर्राहट से पिंजरे के पास आकर पिंजरे में कैद हो जाएगी. बताया कि मादा तेंदुआ पिंजरे के पास दो बार आई लेकिन पिंजरे में कैद नहीं हुई.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*