टिकटों की घोषणा होते ही भड़क उठी बगावत की आग

श्रीगंगानगर, 14 नवम्बर (उदयपुर किरण). टिकट वितरण से जिस तरह का असंतोष सादुलशहर और गंगानगर में फूटा है, श्रीगंगानगर जिले के अधिकांश विधानसभा क्षेत्रों में ऐसे ही हालात बनने का अंदेशा है. अभी तक कांग्रेस ने एक भी सीट के लिए प्रत्याशी घोषित नहीं किया. भाजपा की ओर से करणपुर सीट के लिए प्रत्याशी की घोषणा होना बाकी है. जैसे ही कांग्रेस और भाजपा के इन प्रत्याशियों का ऐलान होगा दोनों ही दलों में बगावत की आग और भड़क उठेगी.

पिछले दिनों बीजेपी में 131 प्रत्याशियों की पहली सूची जारी होने के बाद जो हालात बने हैं, वह सबके सामने हैं. जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री सुरेन्द्र गोयल ने मंत्री पद तथा बीजेपी दोनों से त्याग पत्र देकर भाजपा के वटवृक्ष को उखाड़ फेंकने की बात कह दी है. कई और विधायक भी बगावत पर उतर आए हैं. इसी प्रकार जैसे ही श्रीगंगानगर जिले की तस्वीर सामने आएगी, कांग्रेस और बीजेपी दोनों के ही सामने बागियों की चुनौती खड़ी हो जाएगी. सादुलशहर में डॉ. बृजमोहन सहारण के बगावती तेवर दिख रहे हैं. कल करणपुर में सुरेन्द्रपाल सिंह टीटी कौन सा राग अलापेंगे, कौन यह कह सकता है. राजनीति में आस्था के लिए कोई जगह नहीं है. जब तक कोई पार्टी किसी नेता को साथ थामे रखती है, तब तक वह पार्टी नेताओं के लिए ‘मां’ समान रहती है लेकिन किसी दूसरे को अवसर देते ही उसी ‘मां’ को छोड़ते देर नहीं लगाई जाती.

श्रीगंगानगर जिले में राधेश्याम गंगानगर और गुरमीत सिंह कुन्नर इसके बड़े उदाहरण हैं. इस बार बीजेपी और कांग्रेस दोनों में ही बगावत का डंका ज्यादा बजने के आसार हैं क्योंकि दोनों ही पार्टियों में एक-एक विधानसभा सीट से कई दावेदार कतार में हैं. कुछ विधानसभा क्षेत्रों में अभी आक्रोश की आग सुलग रही है. दावेदारों और कार्यकर्ताओं में बातचीत चल रही है. यह आक्रोश कब फूट जाए, कहा नहीं जा सकता. इससे दोनों पार्टियों की समस्याएं बढऩे वाली हैं. बुधवार रात 31 प्रत्याशियोंं की दूसरी सूची जारी होने के बाद भाजपा में बगावत की आग और अधिक भड़कने की संभावना है.

http://udaipurkiran.in/hindi

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*