मनी लांड्रिंग व हवाला कारोबारी गिरोह का खुलासा, तीन गिरफ्तार

भीलवाड़ा,11 फरवरी (उदयपुर किरण). भीलवाड़ा पुलिस ने शहर में लंबे समय से चल रहे ऑनलाइन क्रिकेट बैटिंग रैकेट, मनी लांड्रिंग तथा हवाला कारोबार का खुलासा करते हुए सरगना उसके पार्टनर सहित तीन लोगों को गिरफ्तार कर बीएमडब्ल्यू और ऑडी जैसी लग्जरी कारों के साथ 19 लाख 11 ग्यारह हजार 439 रुपये की नगदी, 21 मोबाइल और अन्य सामान बरामद किया है. यह गिरोह करीब 200 करोड़ की ट्रांजैक्शन वैल्यू के साथ भीलवाड़ा के सट्टा बाजार में काम कर रहा था. इस गिरोह के तार गुजरात सहित देश के कई बड़े शहरों में जुड़े हुए हैं. साथ ही गिरोह के संबंध नेपाल से भी होने की पुलिस ने संभावना जताई है. जिला पुलिस अधीक्षक योगेश यादव ने इस गिरोह का खुलासा करते हुए उन्होंने बताया कि गिरोह का सरगना कमल मगनानी और उसका साथी ललित छतवानी एवं इनके एक गुर्गे रजत सैनी को गिरफ्तार किया गया है.

एसपी यादव ने बताया कि यह गिरोह ऑनलाइन साइट फाइन एक्सचेंज, लोटस और डायमंड जैसी साइटों के जरिये एक आईडी लेकर और एंड्रॉयड एप के जरिये इस सट्टा कारोबार का संचालन करते हैं. अब तक इनके लैपटॉप में 1431 दिनों का रिकॉर्ड मिला है. जिसमें करीब 55 करोड़ के ट्रांजैक्शन किए और 28 से 29 करोड़ का लेनदेन अब तक हो चुका है. इनकी आईडी की अगर वैल्यू की बात की जाए तो 200 करोड़ की आईडी इस गिरोह ने भीलवाड़ा के बाजार में चला रखी है. यह गिरोह पिछले तीन सालों से शहर में बड़ी ही चालाकी के साथ काम करते हुए युवा, नौजवानों को सट्टे के दलदल में धकेलने का काम कर रहा था. लगातार मुखबिरों की सूचना और इनफॉरमेशन टेक्नोलॉजी के जरिए पुलिस ने देर शाम को इस कार्रवाई को अंजाम दिया और आज सोमवार को इसका खुलासा किया. मुख्य सरगना कमल जिन आईडी का संचालन करता है उनकी संख्या शहर में अब तक 100 से ज्यादा सामने आई है. जिसमें 60 एक्टिव आइडिया शामिल है. प्रारंभिक जांच में हुए खुलासे के बाद पुलिस इस गिरोह की तह तक पहुंचने की तैयारी में है. इन आइडी के जरिए पुलिस को कुछ हवाला कारोबारियों के नाम भी मिले हैं. मुख्य आरोपित की गिरफ्तारी भी जल्द संभव है.

एसपी यादव ने बताया कि इन आइडियो के जरिए होने वाले छोटे बड़े ट्रांजैक्शन को एक जगह से दूसरी जगह पहुंचाने के लिए हवाला कारोबार का सहारा लिया जाता है. जिसमें हवाले से जुड़े एक बड़े कारोबारी का नाम सामने है. जिसे पुलिस जल्द गिरफ्तार कर सकती है, अब तक की जानकारी में इन लोगों के पास बीएमडब्ल्यू और ऑडी जैसी लग्जरी गाड़ियों के साथी जयपुर सहित अन्य शहरों में फ्लैट और प्लॉट होने की जानकारी मिली है इन लोगों ने व्यापार के संचालन के लिए कई बड़े शहरों में लग्जरी ऑफिसओं का निर्माण कर रखा है जिसमें अन्य तरह के व्यापार किए जाते हैं, लेकिन मोबाइल के जरिए मूल रूप से इन ऑफिसों में सट्टे का रैकेट चलाया जा रहा था. पुलिस ने रविवार देर शाम को मुखबिर की सूचना के जरिए छापेमारी करते हुए कमल, ललित को महिला आश्रम स्कूल के निकट इनके ठिकाने से गिरफ्तार किया और 19 लाख 11 हजार 439 रुपये की नगदी, 21 मोबाइल, दो लग्जरी कारें अन्य सामान जब्त किया है. इनके पास मिले लैपटॉप के जरिए हुए खुलासे के बाद कई लोगों के नाम सामने आए हैं जिन से पुलिस पूछताछ कर सकती है.

एसपी यादव ने बताया कि 200 करोड़ की ट्रांजैक्शन वेल्यु वाले इस अवैध कारोबार के जरिए यह लोग मनी लॉन्ड्रिंग और हवाला जैसा काम भी कर रहे थे. ऐसे में इस रैकेट की जानकारी आईडी और इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को भी दी जा रही है ताकि इस मामले की बारीकी से जांच हो सके और गिरोह से जुड़े अन्य लोग बेनकाब हो सके. एसपी यादव ने बताया कि इस गिरोह के तार गुजरात के साथ ही प्रदेश के जयपुर, अजमेर, उदयपुर जैसे कई बड़े शहरों से जुड़े हुए हैं. एसपी यादव ने बताया कि ऑनलाइन बेटिंग मार्केट पर पहली बार भीलवाड़ा में इस कार्रवाई को अंजाम दिया गया है ऐसे में पुलिस ने गैंबलिंग एक्ट के साथ ही आईटी एक्ट, धोखाधड़ी, फर्जी दस्तावेज तैयार करने जैसे आरोपों से संबंधित धाराओं में मामला दर्ज किया जिसमें 10 साल तक की सजा का प्रावधान है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*