देओचा पचामी कोयला ब्लॉक में खनन समस्याओं का समाधान करेंगे पोलैंड के विशेषज्ञ

कोलकाता, 14 फरवरी (उदयपुर किरण). पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले में मौजूद एशिया के सबसे बड़े कोयला ब्लॉक देओचा पचामी में खनन संबंधी सभी समस्याओं का समाधान पोलैंड के तकनीकी विशेषज्ञ करेंगे. राज्य के ऊर्जा विभाग की ओर से इस बारे में गुरुवार को जानकारी दी गई है.

बताया गया है कि पोलैंड के विशेषज्ञों ने इस मामले में तकनीकी संबंधी सहायता देने की सहमति दे दी है. विभाग की ओर से बताया गया है कि पोलैंड के विशेषज्ञों ने उन सभी परिचालन बाधाओं को दूर करने का आश्वासन दिया है जो काले सोने के खनन के रास्ते में आ सकते हैं.
एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पोलिश विशेषज्ञ कोयला ब्लॉक के ओवरबर्डन या बाहरी सतह को कवर करते हुए कोयला क्षेत्र का अध्ययन करेंगे, जो कि देओचा पचामी के मामले में औसतन 500 मीटर है. कोयला प्राप्त करने के लिए इसे ड्रिल करने की आवश्यकता है, जो आसान नहीं है. उल्लेखनीय है कि बीरभूम में मौजूद यह कोयला ब्लॉक दुनिया का एकमात्र ऐसा खदान है जिसका अनुमानित उत्पादन 2.1 बिलियन टन है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*