इलाज में अनियमितता का आरोप लगा रेजिडेंट डॉक्टर को मरीज के परिजनों ने जड़ा थप्पड़

कोटा, 13 फरवरी (उदयपुर किरण). संभाग के सबसे बड़े एमबीएस अस्पताल में महिला का उपचार कराने आये परिजनों में बुधवार को रेजिडेंट डॉक्टर पर इलाज में अनियमितता बरतने का आरोप लगाते हुए ड्यूटी पर तैनात रेजिडेंट डॉक्टर को थप्पड़ जड़ दिया. जिसके बाद नाराज रेजिडेंट डॉक्टरों ने अनिश्चितकालीन कार्य का बहिष्कार कर दिया. कुन्हाड़ी थाना क्षेत्र के सकतपुरा इकबाल चौक निवासी हनीम बानो (36) पत्नी मोहम्मद इरफान ने अज्ञात विषाक्त का सेवन कर लिया था. जिसके बाद परिजन महिला को गंभीर हालत में एमबीएस अस्पताल लेकर पहुंचे.

जहां ड्यूटी डॉक्टरों ने महिला को जांच के बाद अस्पताल में भर्ती कर उपचार शुरू कर दिया. महिला को भर्ती करने के बाद उससे मिलने के लिए उनके परिजन व रिश्तेदार भी अस्पताल में पहुंचे. दोपहर को महिला की तबियत अचानक बिगड़ गई. महिला की तबियत बिगड़ते देख परिजनों ने ड्यूटी पर तैनात रेजिडेंट डॉक्टर मुकेश गहलोत को सूचना दी. इस पर डॉ. मुकेश गहलोत ने मरीज को सीपीआर किया, इसके बाद भी महिला की तबियत में सुधार नही हुआ. इस पर परिजनों ने डॉक्टर पर इलाज में अनियमितता का आरोप लगाते हुए विवाद शुरू कर दिया. मामला बढ़ता देख एमबीएस अस्पताल पर तैनात पुलिस कर्मी भी मौके पर पहुंचे और परिजनों से समझाइश करने लगे. इसी बीच दो युवकों ने रेजिडेंट डॉक्टर मुकेश गहलोत के गाल पर थप्पड़ जड़ दिया. घटना की जानकारी लगते ही अस्पताल में तैनात सभी रेजिडेंट डॉक्टर मौके पर पहुंच गए.

वहीं अस्पताल में डॉक्टरों और मरीज के तिमारदार में विवाद की सूचना पर नयापुरा थाना पुलिस भी मौके पर पहुच गई. उन्होंने सबसे पहली मरीज से मिलने आई भीड़ को अस्पताल से बाहर किया और रेजिडेंट डॉक्टर पर हमला करने के आरोप में वसीम व एक अन्य युवक को हिरासत में लिया. इसके बाद गुस्साए परिजनों ने अस्पताल के बाहर हंगामा शुरू कर दिया. रेजिडेंट डॉक्टर अनिश्चित कालीन हड़ताल पर: हंगामें के बाद रेजिडेंट डॉक्टर को थप्पड़ जड़ने के विरोध में रेजिडेंट डॉक्टर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए. रेजिडेंट डॉक्टर एसोसिएशन अध्यक्ष अशोक ने बताया कि अस्पताल में डॉक्टरों की सुरक्षा को लेकर किसी प्रकार की सुविधा नहीं होने पर आए दिन मरीजो के परिजनों और डॉक्टरों में विवाद की स्थिति पैदा हो जाती है.

ऐसे में ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर अपने आप को असुरक्षित महसूस करते है. डॉक्टरों का काम आखरी समय तक मरीज को बचाने व अच्छा उपचार उपलब्ध करवाने की होती है ना कि उसकी जान लेना. उन्होंने कहा कि जब तक आरोपित युवकों को गिरफ्तार नहीं किया जाएगा और रेजिडेंट डॉक्टरों को सुरक्षा उपलब्ध नहीं करवाई जाएगी तब तक रेजिडेंट डॉक्टर अनिश्चित कालीन हड़ताल पर रहेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*