आबादी क्षेत्र में घुसा पैंथर, महिला पर किया हमला

कोटा, 11 फरवरी (उदयपुर किरण). पिछले एक माह से कोटा शहर में पैंथर की दहशत लगातार बढ़ती जा रही है, वही वन विभाग की टीम आज तक शहर वासियों को पैंथर के डर से मुक्त नहीं करा पाई है. सिविल लाइन स्थित बृजराज कॉलोनी में रविवार देर रात को पैंथर ने एक महिला पर हमला कर दिया, परिजनों की सतर्कता से महिला पैंथर के हमले में बाल-बाल बच गई. कोटा शहर के चंबल नदी से सटी सिविल लाइंस बृजराज कालोनी में रविवार देर रात को यहां रहने वाले शंभूलाल मेघवाल के बड़े बेटे राजकुमार मेघवाल की पत्नी बरखा (28) पर पैंथर ने हमला बोल दिया. महिला रात को उल्टी आने के कारण अपने घर से बाहर निकली थी, यहां मकान के पिछले हिस्से से होते हुए एक पैंथर शम्भूलाल मेघवाल की छत पर आया और अचानक उनकी बहू पर हमला कर दिया था.

घटना के बाद महिला की पुकार सुन कर परिजन घर के बाहर निकले जिसके बाद के पैंथर वहां से भाग निकला. महिला की आवाज सुनने के बाद मोहल्ले वासी भी आपने-अपने घरों से बाहर आए और मौके पर भारी भीड़ जमा हो गई. जिसके बाद पीड़ित परिजनों ने महिला पर पेंथर के हमले की जानकारी वन विभाग को दी. सूचना मिलते ही उपवन अधिकारी जोधाराज सिंह हाड़ा अपने टीम के साथ घटनास्थल पर पहुंचे और पीड़ित परिजनों से मामले की जानकारी जुटाई. जिसके बाद वन विभाग की टीम ने मोहल्ले वासियों के साथ मिलकर देररात तक चम्बल क्षेत्र के जंगली इलाके में पैंथर की खोज की लेकिन टीम को खाली हाथ उल्टे पांव लौटना पड़ा. महिला पर हमले की सूचना के बाद से स्थानीय निवासियों में भय का माहौल बना हुआ है.

पीड़ित महिला के पति राजकुमार ने बताया कि देर रात को पेंथर ने उनकी पत्नी बरखा पर अचानक हमला कर दिया. जिसके बाद से उसके दिल में पैंथर का खौफ छाया हुआ है. इस मामले में रात को वन विभाग की टीम को जानकारी दी गई थी जिस वन विभाग की टीम ने औपचारिकता पूरी करते हुई सोमवार को पिंजरा लगाकर पैंथर को पकड़ने की बात कही थी. लेकिन दोपहर बाद तक वन विभाग का कोई भी अधिकारी या कर्मचारी मौके पर नही पहुंचा. पड़ोस में रहने वाले शंकरलाल ने बताया कि कालोनी में पिछले तीन दिन से पैंथर का मूवमेंट देखा जा रहा है. वन विभाग की टीम ने इस मामले में अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की और आज फिर से पैंथर ने महिला पर हमला कर दिया. जब वन विभाग की टीम को जानकारी दी गई तो वह पैंथर को पकड़ने व बेहोश करने के लिए उपयुक्त संसाधन तक साथ लेकर नहीं आई. यह कालोनी चंबल के तट पर होने के कारण पैंथर को यहां शिकार के लिए शावक के बच्चे आसानी से मिल जाते हैं और वह पानी वाले इलाके में विचरण करता रहता है.

पैंथर की दहशत से कॉलोनी वासियों को रात-रात जागकर अपने घरों की निगरानी रखनी पड़ रही है. वहीं वन विभाग की टीम निवासियों से पेंथर होने के सबूत मांग रही है. उपवन्य अधिकारी जोधराज सिंह हाड़ा ने बताया कि सिविल लाइंस स्थित बृजराज कालोनी में महिला पर पैंथर के हमले की सूचना मिली थी. जिस पर वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची ओर पीड़ित परिजनों से जानकारी जुटाई. देर तक सर्च ऑपरेशन चलाने के बावजूद यहां पैंथर होने के कोई सबूत नहीं मिले. इस इलाके में लकड़बग्घा के मूवमेंट देखा गया है. रात्रि के समय लकड़बग्घा देख कर लोग उसे पैंथर समझकर डर रहे है. इससे पहले रेलवे कालोनी में पेंथर की जगह बंदर के पद मार्क मिले थे. अब तक शहर में 1 फरवरी को आर्मी इलाके में पैंथर को देखा गया है जिसके प्रमाण भी वन विभाग को मिले हैं. पैंथर को पकड़ने के लिए वन विभाग की टीम लगातार प्रयासरत है. शहर में अब तक पांच जगहों जिनमें बोरखेडा, रेलवे कालोनी, सरस्वती कॉलोनी, सोगरिया, सिविल लाइन में पैंथर होने की शिकायत वन विभाग को मिली है. वन विभाग को जहां से भी पैंथर होने की सूचना मिल रही है वन विभाग वहीं पर टीम को भेज कर उपयुक्त कार्रवाई कर रहा है.

http://udaipurkiran.in/hindi

The post आबादी क्षेत्र में घुसा पैंथर, महिला पर किया हमला appeared first on DAINIK PUKAR. Dainik Pukar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*